Difference between Positive and Normative Economics – In Hindi

difference-between-positive-and-normative-economics

सकारात्मक अर्थशास्त्र और नियामक अर्थशास्त्र (Positive and Normative Economics) के बीच मूल अंतर यह है कि सकारात्मक अर्थशास्त्र तथ्यों और आंकड़ों के साथ अतीत, वर्तमान और भविष्य से संबंधित आर्थिक मुद्दों से संबंधित है, जबकि सामान्य अर्थशास्त्र आर्थिक मुद्दों से संबंधित अर्थशास्त्रियों के मूल्य निर्णय से संबंधित विचारों से संबंधित है। इन दोनों में अंतर …

Read Full Article

6 Difference between Individual Supply and Market Supply – In Hindi

Difference-between-Individual-Supply-and-Market-Supply-min

दोनों शब्दों (Individual Supply and Market Supply) में प्रमुख अंतर यह है कि व्यक्तिगत आपूर्ति एकल विक्रेता द्वारा आपूर्ति की गई मात्रा को संदर्भित करती है जबकि बाजार की आपूर्ति बाजार में सभी विक्रेताओं द्वारा आपूर्ति की गई मात्रा को संदर्भित करती है। इन दोनों में अंतर जानने के लिए हमें इन शब्दों का अर्थ …

Read Full Article

7 Difference between Price Elasticity and Income Elasticity – In Hindi

Difference-between-Price-Elasticity-and-Income-Elasticity-min

दोनों शब्दों (Price Elasticity and Income Elasticity) में प्रमुख अंतर यह है कि मांग की कीमत लोच किसी वस्तु की कीमत में बदलाव के कारण मांग में बदलाव का वर्णन करती है जबकि मांग की आय लोच बताती है कि आय में बदलाव के साथ वस्तु की मांग में कितना बदलाव होता है। इन दोनों …

Read Full Article

Difference between Substitute and Complementary goods – In Hindi

Difference-between-Substitute-and-Complementary-goods-min

दोनों शब्दों (Substitute and Complementary goods) में मुख्य अंतर यह है कि स्थानापन्न वस्तुएँ एक दूसरे से स्वतंत्र होती हैं जबकि पूरक वस्तुएँ एक दूसरे पर निर्भर होती हैं। इन दोनों प्रकार की वस्तुओं को एक दूसरे पर निर्भरता के आधार पर विभेदित किया जाता है। इन दोनों में अंतर जानने के लिए हमें इन …

Read Full Article

8 Difference between Normal Goods and Inferior Goods – In Hindi

Difference-between-Normal-Goods-and-Inferior-Goods-min

दोनों शब्दों (Normal Goods and Inferior Goods) में प्रमुख अंतर यह है कि सामान्य सामान सकारात्मक रूप से आय से संबंधित होते हैं जबकि निम्न सामान आय से विपरीत रूप से संबंधित होते हैं। सामान्य सामान सभी उपभोक्ताओं द्वारा मांग की जाने वाली आवश्यकता के सामान की तरह होते हैं जबकि अवर सामान उपभोक्ताओं के …

Read Full Article

9 Difference between Demand and Supply – In Hindi

Difference-between-Demand-and-Supply-min-1

मांग और आपूर्ति (Demand and Supply) के बीच मुख्य अंतर यह है कि मांग बाजार में उपभोक्ता द्वारा मांग की गई मात्रा को संदर्भित करती है जबकि आपूर्ति बाजार में विक्रेताओं द्वारा आपूर्ति की गई मात्रा को संदर्भित करती है। दोनों शर्तें बाजार में मुख्य प्रेरक शक्ति हैं। इन दोनों में अंतर को समझने के …

Read Full Article

6 Difference between Total Utility and Marginal Utility – In Hindi

Difference-between-total-utility-and-marginal-utility-min

कुल उपयोगिता और सीमांत उपयोगिता (Total Utility and Marginal Utility) के बीच मुख्य अंतर यह है कि कुल उपयोगिता से तात्पर्य किसी वस्तु की एक निश्चित मात्रा के उपभोग से उपभोक्ता द्वारा प्राप्त संतुष्टि से है जबकि सीमांत उपयोगिता से तात्पर्य उपभोक्ता द्वारा किसी वस्तु की एक और इकाई की खपत से प्राप्त अतिरिक्त संतुष्टि …

Read Full Article

12 Difference between Micro Economics and Macro Economics – In Hindi

Difference-between-Micro-Economics-and-Macro-Economics-min-1

माइक्रो इकोनॉमिक्स और मैक्रो इकोनॉमिक्स (Micro Economics and Macro Economics) के बीच मुख्य अंतर यह है कि माइक्रोइकॉनॉमिक्स व्यक्तियों, घरों और फर्मों के व्यवहार का अध्ययन है जबकि मैक्रो इकोनॉमिक्स समग्र रूप से अर्थव्यवस्था का अध्ययन है। इसके अंतर को समझने के लिए सबसे पहले हमें दोनों शब्दों का अर्थ जानना होगा: सूक्ष्म अर्थशास्त्र का …

Read Full Article

10 Difference between Economics and Managerial Economics – In Hindi

Difference-between-Economics-and-Managerial-Economics-min

अर्थशास्त्र और प्रबंधकीय अर्थशास्त्र (Economics and Managerial Economics) के बीच मुख्य अंतर यह है कि अर्थशास्त्र किसी समस्या के केवल आर्थिक पहलुओं से संबंधित है, जबकि बाद वाला, निर्णय लेने के लिए उस समस्या के आर्थिक और गैर-आर्थिक पहलुओं से निपटता है। इसके अंतर को समझने के लिए सबसे पहले हमें दोनों शब्दों का अर्थ …

Read Full Article