Concept of Management- its 4 features and objectives – In Hindi

प्रबंधन की अवधारणा (Concept of Management) सभी व्यावसायिक संगठनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है चाहे वे लाभ हों या गैर-लाभकारी, बड़े या छोटे। इसमें (Concept Of Management) परस्पर संबंधित कार्य होते हैं जो प्रबंधकों द्वारा किए जाते हैं जैसे नियोजन, आयोजन, निर्देशन, नियंत्रण, काम पर लोगों को प्रेरित करना।

प्रबंधन का अर्थ (Meaning of Management):

प्रबंधन (Management) का अर्थ वांछित लक्ष्यों को प्राप्त करने के उद्देश्य से नियोजन, आयोजन, निर्देशन, समन्वय, नियंत्रण आदि से संबंधित सभी गतिविधियों का प्रबंधन करना है।

विभिन्न लेखकों द्वारा परिभाषाएं (Definitions by different authors):

“प्रबंधन का अर्थ पूर्वानुमान और योजना बनाना, संगठित करना, आदेश देना, समन्वय करना और नियंत्रित करना है।”

Henry Fayol

“प्रबंधन वास्तव में यह जानने की कला है कि आपके पुरुषों को क्या करना है और फिर यह देखना कि वे इसे सबसे अच्छे और सस्ते तरीके से करते हैं।”

-Koots and O’Donnel

“प्रबंध घोषित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए नियोजन, आयोजन, निर्देशन और नियंत्रण की प्रक्रिया के माध्यम से सभी संसाधनों का समन्वय है।”

-F.W.Taylor

“प्रबंध वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक सहकारी समूह दूसरों के कार्यों को सामान्य लक्ष्यों की ओर निर्देशित करता है।”

-Marrie and Douglas

प्रबंधन की अवधारणा (concept of management):

इसमें (concept of management) तीन शब्द शामिल हैं जो इस प्रकार हैं

प्रक्रिया (Process): यह संगठन के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए नियोजन, आयोजन, निर्देशन, समन्वय, नियंत्रण आदि जैसे चरणों की संख्या के अनुक्रम को संदर्भित करता है।

प्रभावोत्पादकता (Effectiveness): इसका अर्थ है अंतिम परिणाम के साथ सही कार्य करना। प्रभावशीलता का अर्थ है वांछित लक्ष्य या उद्देश्य को समय पर प्राप्त करना।

दक्षता (Efficiency): इसका अर्थ है कार्य को सही तरीके से करना। सरल शब्दों में, हम कह सकते हैं कि दक्षता संसाधनों के उचित उपयोग और लागत को कम करने से संबंधित है।

प्रबंधन की विशेषताएं (Features of management):

प्रबंधन की कुछ विशेषताएं हैं जो प्रबंधन के कामकाज के बारे में अधिक स्पष्टता प्रदान करेंगी:

1. प्रबंधन एक समूह गतिविधि है (Management is a group activity):

प्रबंधन समूह गतिविधियों का एक महत्वपूर्ण तत्व है। इसमें सभी प्रबंधक और कर्मचारी वांछित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। हम कह सकते हैं कि कोई भी अपनी इच्छाओं को स्वयं संतुष्ट नहीं कर सकता, वह अपने साथियों के साथ आता है और प्राप्त करने के लिए एक समूह में काम करता है।

2. प्रबंधन व्यापक है (Management is pervasive):

प्रबंधन गतिविधियाँ प्रकृति में व्यापक हैं। इसका मतलब है कि ये गतिविधियाँ दुनिया के हर कोने में की जाती हैं। संगठनों में सभी स्तरों पर प्रबंधकीय गतिविधियाँ की जाती हैं।

3. प्रबंधन एक सतत प्रक्रिया है (Management is a continuous process):

प्रबंधन कभी खत्म नहीं होता है। प्रबंधक संगठनों में नियोजन, आयोजन, निर्देशन, नियंत्रण से संबंधित सभी गतिविधियों का निरंतर निष्पादन कर रहे हैं। उदाहरण के लिए: यदि वांछित उद्देश्य पूरा हो जाता है तो इसका मतलब यह नहीं है कि प्रबंधन आगे की योजना नहीं करेगा, यह नए लक्ष्यों और भविष्य के उद्देश्यों के लिए निरंतर रहेगा।

4. प्रबंधन प्रकृति में गतिशील है (Management is dynamic in nature):

पर्यावरण में परिवर्तन के अनुसार, प्रबंधन को भविष्य के विकास के विकास के लिए संगठन के लक्ष्यों और उद्देश्यों में परिवर्तन करना होता है।

5. प्रबंधन बहुआयामी (Management multi-dimensional):

इसका मतलब केवल एक गतिविधि नहीं है बल्कि इसमें विभिन्न गतिविधियाँ शामिल हैं जैसे कार्य का प्रबंधन (योजना, आयोजन, नियंत्रण), लोगों का प्रबंधन (स्टाफिंग, निर्देशन), संचालन का प्रबंधन (उत्पादन, बिक्री, खरीद)।

प्रबंधन के उद्देश्य (Objectives of management):

संगठन के प्रबंधकीय उद्देश्यों को निम्नानुसार विभेदित किया जा सकता है:

1.संगठनात्मक उद्देश्य: ये संगठन की वृद्धि और समृद्धि से संबंधित हैं।

2. सामाजिक उद्देश्य: ये उद्देश्य समाज के साथ संगठन की प्रतिबद्धता से संबंधित हैं:

ए) गुणवत्ता वाले उत्पाद।

बी) रोजगार के अवसर।

ग) समुदाय को वित्तीय सहायता।

d) सरकार की परियोजनाओं में योगदान। और एनजीओ।

3. व्यक्तिगत उद्देश्य / मानवीय उद्देश्य (Personal objectives/ human objectives):

व्यक्तिगत या मानवीय उद्देश्य संगठन/व्यवसाय में कार्यरत सभी कामगारों से संबंधित होते हैं। यदि प्रबंधन द्वारा उनके उद्देश्यों को पूरा नहीं किया जाता है तो कभी-कभी श्रमिक अपनी रुचि खो देते हैं। इसलिए प्रबंधन को इन उद्देश्यों पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास करना चाहिए:

उदाहरण के लिए अच्छी काम करने की स्थिति, अच्छा वेतन पैकेज, विकास, पुरस्कार और मान्यता, आवास सुविधा, चिकित्सा सुविधा, शिक्षा, प्रशिक्षण आदि।

विषय पढ़ने के लिए धन्यवाद।

कृपया अपनी प्रतिक्रिया कमेंट करें जो आप चाहते हैं। अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

References: –

V.K. Publication

Also, Check our Tutorial on the following subjects: 

  1. Financial Accounting Class +1
  2. Advanced Financial Accounting Class +2
  3. Business Economics Class +1 

 

Leave a Reply