Petty Cash Book |Subsidiary Books – In Hindi

जब हेड कैशियर पेटी खर्च के लिए एक छोटे कैशियर को कुछ राशि का भुगतान करता है तो वह निर्धारित अवधि में उसके द्वारा भुगतान किए गए छोटे खर्चों का विवरण देता है जिसे पेटी कैश बुक (Petty Cash Book) कहा जाता है।

हेड कैशियर निम्नलिखित तरीकों से नकद भुगतान कर सकता है:

1. जब जरूरत
2. निश्चित अवधि के लिए निश्चित राशि
3. पेशगी (Advance) खाता

1. जब जरूरत है:

इस प्रणाली में, हेड कैशियर पेटी कैशियर को नकद भुगतान करता है जब उसे जरूरत होती है इसका मतलब है कि उसने पहले प्राप्त सभी नकद खर्च किए थे।

2. निश्चित (Fixed) अवधि के लिए निश्चित राशि:

इस प्रणाली में, हेड कैशियर एक निश्चित समय के लिए पेटी कैशियर को एक निश्चित राशि का भुगतान करता है (यह एक दिन, एक सप्ताह या एक महीने के लिए हो सकता है)

3.पेशगी (Advance) खाता:

यह प्रणाली आम तौर पर अधिकांश व्यावसायिक द्वारा फॉलो (follow) किया जाता है। इस प्रणाली के तहत, एक विशेष अवधि के लिए कुल पेटी खर्च का अनुमान लगाया जाता है और यह राशि हेड कैशियर द्वारा पेटी कैशियर को दी जाती है। इस राशि को Imprest Cash कहा जाता है।

पेटी कैशबुक (Petty Cash Book) के प्रकार:

1. सरल (Simple)
2. स्तंभकार या विश्लेषणात्मक (Columnar or Analytical)

1. सरल पेटी कैश बुक (Petty Cash Book):

यह लगभग एक साधारण नकद पुस्तक के समान है। छोटे पैमाने के व्यवसायों के लिए, एक साधारण पेटी कैश बुक उचित है। इसका प्रारूप नीचे दिखाया गया है:

Simple petty Cash book Format
Simple petty Cashbook Format

सरल पेटी कैश बुक (Petty Cash Book) में कॉलम का विवरण:

1.डेबिट / स्वीकार पत्र : –

हेड कैशियर से प्राप्त राशि को इस कॉलम में दर्ज किया जाएगा।

2. कैश बुक फोलियो : –

C.B.फोलियो का अर्थ है कैश बुक फोलियो। मुख्य कैशबुक में पेटी कैशियर को नकद भुगतान। पेज नंबर और इस कॉलम में लिखी गई कैश बुक में प्रवेश संख्या।

3. दिनांक : –

इस कॉलम में नकद प्राप्ति और भुगतान की तारीख दर्ज की जाएगी।

4. विवरण (Particulars) : –

इस कॉलम में दर्ज किए गए लेन-देन का विवरण।

5. वाउचर नंबर

V. No. का अर्थ है वाउचर संख्या। एक लेखा प्रणाली में, हमें व्यवस्थित तरीके से रिकॉर्ड को रीचेक (recheck) करने या बनाए रखने के लिए प्रत्येक और प्रत्येक लेनदेन के लिए वाउचर नंबर प्रदान करना होगा। ये नंबर इस कॉलम में दर्ज किए जाएंगे।

6. लेजर फोलियो :-

L.F. का अर्थ है लेज़र फोलियो। पेटी कैश बुक एक मूल प्रविष्टि पुस्तक है, इसलिए हम इन सभी लेनदेन को खाता बही में पोस्ट करेंगे। इसलिए, खाता बही की पृष्ठ (page no.) संख्या, जिस पर यह लेनदेन दर्ज किया गया है, इस कॉलम में दर्ज की जाएगी।

7. क्रेडिट / भुगतान :-

पेटी कैशियर द्वारा मिले सभी छोटे-मोटे खर्चों के लेन-देन की भुगतान राशि इस कॉलम में दर्ज की जाएगी।

उदाहरण: –

Prepare a petty cash book in the books of M/s Tutors Tips ltd. on the basis of the following transactions.

Date  V. No.  Particulars  Amount
2018      
Jan 1 1(Receipt No.) Cash received from head Cashier with C.B entry No. 21 1,000
Jan 3 1 Traveling Expenses paid for the tour of Mr. Aman 80
Jan 4 2 Revenue stamps purchased  20
Jan 6 3 Staff tea and snacks expenses paid  40
Jan 7 4 Freight paid on the purchase of goods  80
Jan 9 5 Telephone Expenses Paid  150
Jan 12 6 Revenue stamps purchased  25
Jan 15 7 Freight paid  30
Jan 17 8 Telegram charges paid  15
Jan 20 9 Paid for carriage 10
Jan 21 10 Refreshments Exp of staff  30
Jan 24 11 Stationary expenses  60
Jan 26 12 Paid traveling expenses  40
Jan 29 13 Freight paid on the purchase of goods  40
Jan 31 14 Stationary expenses  30
Simple petty Cash book Example - solution
सरल क्षुद्र (लघु) कैशबुक उदाहरण – समाधान

2. स्तंभकार या विश्लेषणात्मक पेटी कैश बुक:

छोटे पैमाने के व्यवसाय के लिए, सरल पेटी कैश बुक पर्याप्त है लेकिन मध्यम या बड़े पैमाने पर छोटे व्यवसाय खर्चों की संख्या बढ़ जाती है इसलिए प्रत्येक प्रकार के छोटे खर्चों के लिए अलग रिकॉर्ड रखना वांछनीय है। फिर यह पता चल सकेगा कि पेटीएम खर्च की किन चीजों को नियंत्रित करने की जरूरत है। इसका प्रारूप नीचे दिखाया गया है:

Columnar or Analytical petty column Cash book
स्तंभकार या विश्लेषणात्मक क्षुद्र (लघु) स्तंभ कैशबुक

स्तंभकार पेटी कैश बुक में कॉलम का विवरण: –

ये सभी कॉलम साधारण पेटीएम कैश बुक के साथ समान हैं

1. डेबिट / रसीदें (Debit / Receipts)
2. सी। बी। फोलियो (cash book folio)
3. तारीख (Date)
4. विवरण (Particulars)
5. वि। सं। (voucher number)
6. एल। एफ (Ledger folio)
7. क्रेडिट / भुगतान (Credit / Payments)

8. व्यय का नाम:

इन कॉलमों में, हमें प्रत्येक अलग खर्च के लिए एक अलग कॉलम बनाना होगा।

उदाहरण: –

हमने ऊपर के रूप में एक ही उदाहरण लिया है और इसे स्तंभ (columnar) प्रारूप में हल किया है।

समाधान:-

Columnar petty Cash book Example - solution
स्तंभकार (Columnar) पेटी कैशबुक उदाहरण – समाधान

यदि आपके पास पेटी कैश बुक के इस विषय के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो कृपया नीचे टिप्पणी अनुभाग में पूछें

धन्यवाद

Check out Financial Accounting Books @ Amazon.in

Leave a Reply

%d bloggers like this: