6 Difference between Individual Demand and Market Demand – In Hindi

Difference-between-Individual-Demand-and-Market-Demand-min

दोनों शब्दों (Individual Demand and Market Demand) में प्रमुख अंतर यह है कि व्यक्तिगत मांग एक उपभोक्ता द्वारा मांग की गई मात्रा को संदर्भित करती है जबकि बाजार की मांग बाजार में सभी उपभोक्ताओं द्वारा मांग की गई मात्रा को संदर्भित करती है। इन दोनों में अंतर जानने के लिए हमें इन शब्दों का अर्थ …

Read Full Article

Relationship between Income and Demand – In Hindi

Relationship-between-Income-and-Demand-min (1)

आय और मांग के बीच संबंध (Relationship between Income and Demand) बताते हैं कि मांग आय से कैसे संबंधित है। दूसरे शब्दों में, वस्तुओं की मांग पर उपभोक्ताओं की आय में परिवर्तन का प्रभाव इस संबंध द्वारा परिभाषित किया गया है। मांग और आय के बीच संबंध (Relationship between Income and Demand): जैसा कि हम …

Read Full Article

Cheque: Meaning, Types, and Explanation

Cheque - Meaning, Types and explanation

चेक (Cheque) लिखित में एक उपकरण है जिसमें एक बैंकर के लिए बिना शर्त निर्देश होता है (एक व्यक्ति जो पहले से ही एक बैंकर (Banker) के पास राशि जमा कर चुका है), एक निश्चित व्यक्ति को या किसी निश्चित व्यक्ति के आदेश को एक विशिष्ट राशि का भुगतान करने के लिए। केवल मांग पर …

Read Full Article

Negotiable Instrument: Meaning and Explanation – In Hindi

Negotiable Instrument - Meaning, Types and explanation

निगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट (Negotiable Instrument) एक दस्तावेज है जिसमें एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को एक विशिष्ट राशि का भुगतान करने का वादा किया जाता है। सरल शब्दों में, यह (Negotiable Instrument) उधारकर्ता द्वारा पैसे या सेवाओं के ऋणदाता को एक निश्चित राशि का भुगतान करने का एक लिखित वादा है। जब विक्रेता किसी अन्य व्यक्ति …

Read Full Article

Promissory Note: Meaning and Explanation -In Hindi

Promissory Note - Meaning and explanation

  वचन पत्र (Promissory Note): एक वचन पत्र (Promissory note) एक उपकरण होता है जिसमें विशिष्ट तिथि या ऑन-डिमांड पर लेनदार को एक निश्चित राशि का भुगतान करने के लिए निर्माता (देनदार) द्वारा लिखित और हस्ताक्षरित वादा होता है। “एक वचन पत्र (Promissory note) लिख रहा है (बैंक नोट या मुद्रा नोट नहीं), जिसमें बिना …

Read Full Article

Bill of exchange (BOE): Meaning and Examples – In Hindi

Bills of Exchange - Meaning and explanation

विनिमय बिल (Bill Of Exchange) एक ऐसा साधन है जिसमें एक निश्चित अवधि के बाद किसी निश्चित व्यक्ति (person) को कुछ राशि का भुगतान करने का वादा होता है। यह (Bill Of Exchange) आम तौर पर लेनदार (निर्माता या दराज) द्वारा अपने देनदार (स्वीकर्ता या ड्रेवे) पर तैयार किया जाता है और देनदार यह स्वीकार …

Read Full Article

Suspense Account: Meaning and explanation – In Hindi

Suspense account

सन्देही खाता (Suspense Account): – सस्पेंस ए / सी (Suspense Account) वह खाता है जिसमें हमें उन सभी व्यापारिक लेन-देन को रिकॉर्ड (Record) करना होता है जिनमें अधूरी जानकारी होती है। कभी-कभी, एक लेखाकार को लेन-देन के बारे में उचित जानकारी नहीं होती थी लेकिन उसे सभी व्यवसाय लेनदेन को रिकॉर्ड करना पड़ता है, इसलिए …

Read Full Article

Error Rectification in accounting – Explanation with examples – In Hindi

Error Rectification in accounting - Explanation with examples

लेखांकन में त्रुटि सुधार (Error Rectification in accounting):- त्रुटि (Error) का मतलब है गलती। जब हम यहां कुछ काम कर रहे होते हैं तो कई बार गलती करने के भी मौके होते हैं। इसलिए, एक लेखाकार की रिकॉर्डिंग, पोस्ट (Post) करने या खाता बही को संतुलित करने के दौरान कई संभावनाएं हैं कि उसने अपने …

Read Full Article

Income Statement: Meaning, Format & Examples -In Hindi

Income Statement - Feature Image

  आय विवरण (Income Statement) एक विशेष अवधि के दौरान किए गए सभी खर्चों और राजस्व को दर्शाता है। यह (Income Statement) विशेष लेखांकन अवधि के लिए व्यवसाय की शुद्ध (Net) कमाई का पता लगाने के लिए तैयार किया जाता है। इसे लाभ और हानि खाते / विवरण के रूप में भी जाना जाता है। …

Read Full Article

Balance Sheet: Meaning, Format & Examples – In Hindi

Balance Sheet - Feature Image

मीनिंग ऑफ बैलेंस शीट (Meaning of Balance Sheet): – बैलेंस शीट (Balance Sheet) एक विशेष लेखा अवधि में व्यापार की संपत्ति और देनदारियों की स्थिति को दर्शाने वाला बयान है। यह संपत्ति, पूंजी और देनदारियों के खाता बही के संतुलन की एक सूची है। संपत्ति का मूल्य जो हम बाजार से महसूस कर सकते हैं …

Read Full Article

close