Price Floor – Meaning and its Graphical Representation – In Hindi

Advertisement

मूल्य तल (Price Floor) से तात्पर्य कमोडिटी के लिए बाजार में भुगतान की जाने वाली कमोडिटी या न्यूनतम मूल्य के लिए सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम या न्यूनतम मूल्य से है।

Advertisement
Advertisement

मूल्य तल क्या है (What is the Price Floor)?

मूल्य तल एक वस्तु के लिए सरकार द्वारा लगाए गए न्यूनतम मूल्य को संदर्भित करता है। आम तौर पर, यह कृषि उत्पादों के लिए तय होता है। इसलिए, सरकार द्वारा यह मूल्य नियंत्रण उपाय किसानों की आय को नियंत्रित करता है।

Advertisement

गेहूं, चावल जैसे कृषि या कृषि उत्पाद प्रकृति में मौसमी हैं। इस प्रकार, इन सामानों को किसानों द्वारा बहुत कम समय में काटा और बेचा जाता है। इसके विपरीत, ये पूरे वर्ष मांगे जाते हैं। नतीजतन, बाजार (Market) में अतिरिक्त आपूर्ति होगी। नतीजतन, कीमत दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है। इसके अलावा, अच्छी फसल और उच्च उत्पादन से गरीबी और निम्न आय होती है। ऐसी स्थिति में, किसान अपनी खेती में कटौती करते हैं और परिणामस्वरूप अनाज की कमी हो जाती है। इस स्थिति को देखते हुए, सरकार को किसानों की आय को विनियमित करने के साथ-साथ देश में खाद्यान्न की कमी से बचने के लिए हस्तक्षेप करना होगा। तदनुसार, सरकार खाद्यान्नों के फर्श मूल्य को तय करती है। इसका मतलब न्यूनतम मूल्य है जो व्यापारियों को थोक बाजार में किसानों को भुगतान करना होगा।

लेकिन, अगर व्यापारी इन फसलों को फर्श की कीमत पर नहीं खरीद सकते हैं, तो सरकार किसानों को ‘समर्थन मूल्य’ प्रदान करती है। समर्थन मूल्य वह मूल्य होता है जिस पर सरकार किसानों की संपूर्ण वस्तुओं को खरीदती है, जिसे किसान खुले बाजार में फर्श की कीमत पर बेचने में विफल रहते हैं। इस प्रकार, फर्श की कीमत हमेशा के लिए समर्थन मूल्य का अर्थ है।

परिभाषा (Definition):

मंजिल मूल्य (Price Floor) सरकार द्वारा निर्धारित वस्तु की न्यूनतम कीमत है। अक्सर, यह (Price Floor) कमोडिटी के संतुलन मूल्य से अधिक होता है। बाजार में कोई भी उत्पाद संतुलन मूल्य से कम कीमत पर नहीं खरीद सकता है। अक्सर, यह (Price Floor) समर्थन मूल्य के साथ बराबर होता है।

समर्थन मूल्य किसानों को उनके उत्पादन की खरीद के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली सुनिश्चित न्यूनतम कीमत है। आम तौर पर, यह (Price Floor) संतुलन मूल्य से अधिक है। यह किसानों की आय को विनियमित करने के लिए पेश किया जाता है।

उदाहरण (Illustration):

मान लीजिए, संबंधित उत्पाद, यहां गेहूं है। बाजार में खरीदारों और विक्रेताओं की एक बड़ी संख्या है। इसलिए, संबंधित बाजार एकदम सही प्रतिस्पर्धा है। तदनुसार, गेहूं की कीमत बाजार में मांग और आपूर्ति बलों द्वारा निर्धारित की जाती है। इसलिए, तीन हजार रुपये की कीमत पर, संतुलन मात्रा 2 क्विंटल है।

यह माना जाता है कि बाजार में गेहूं की कीमत बाजार में बहुत कम है। इस प्रकार, किसानों को नुकसान उठाना पड़ता है क्योंकि उन्हें अपने उत्पादन के लिए पर्याप्त पैसा नहीं मिलता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए, भारत सरकार 4,000 रुपये मूल्य की मंजिल तय करती है। यह संतुलन मूल्य से अधिक है। नतीजतन, आपूर्ति और मांग प्रभावित होती है। मांग घटकर 1 क्विंटल हो जाती है और आपूर्ति बढ़कर 3 क्विंटल हो जाती है। नतीजतन, मांग और आपूर्ति के बीच एक अंतर उभरा है। दूसरे शब्दों में, यह अतिरिक्त आपूर्ति यानी डिमांड <आपूर्ति की स्थिति बनाता है। यहां, अतिरिक्त आपूर्ति 2 क्विंटल (3-1 क्विंटल) है।

सचित्र प्रदर्शन (Graphical Representation):

आंकड़े में, X-axis गेहूं की मात्रा को दर्शाता है और Y-axis कीमत को दर्शाता है।DD और SS बाजार में गेहूं की मांग और आपूर्ति घटता है। और, बिंदु E, प्रारंभिक संतुलन बिंदु को रु 3,000 की समतुल्य कीमत और 2 क्विंटल की एक समतुल्य मात्रा दिखा रहा है। किसानों की अधिक लागत को देखते हुए, सरकार ने कमोडिटी पर 4000 रु का मूल्य लगाया। नतीजतन, गेहूं की मांग 1 क्विंटल की है, और आपूर्ति 3 इकाइयों तक फैली हुई है। दूसरे शब्दों में, यह अतिरिक्त आपूर्ति यानी डिमांड <आपूर्ति की स्थिति बनाता है। यहां, अतिरिक्त आपूर्ति एबी = 2 क्विंटल (3-1 क्विंटल) है।

Price Floor
Price Floor

2 क्विंटल का यह अधिशेष सरकार द्वारा खरीदा जाता है। सरकार इसे सार्वजनिक वितरण के लिए उपयोग करने के लिए एक बफर स्टॉक के रूप में संग्रहीत करती है। हालाँकि, इस स्टॉक को संग्रहीत करने की लागत सरकार के इस मूल्य तल / समर्थन मूल्य नीति का एक प्रमुख अवगुण है।

मूल्य तल के निहितार्थ (Implications of Price Floor):

भंडारण (Buffer Stock):

यह एक मूल्य मंजिल (Price Floor) के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है। इसका तात्पर्य सरकार द्वारा खरीदे गए अधिशेष स्टॉक से है जो किसान खुले बाजार में फर्श की कीमत पर बेचने में विफल रहते हैं। इस शेयर को खरीदकर, सरकार सार्वजनिक वितरण के लिए उपयोग करने के लिए अपना बफर स्टॉक बनाती है। इस प्रकार, यह बफर स्टॉक के माध्यम से है कि यह मूल्य निर्धारण नीति सफल हो जाती है।

धन्यवाद!!!

कृपया अपने दोस्तों के साथ साझा करें

यदि आपके कोई प्रश्न हैं तो टिप्पणी करें।

References:

Introductory Microeconomics – Class 11 – CBSE (2020-21) 

Advertisement

Leave a Reply

close