6 Difference between Horizontal and Vertical Balance sheet – In Hindi

क्षैतिज और लंबवत बैलेंस शीट (Horizontal and Vertical Balance sheet) के बीच का अंतर प्रस्तुति का है। क्षैतिज बैलेंस शीट में, संपत्ति और देनदारियों को साथ-साथ दिखाया जाता है लेकिन ऊर्ध्वाधर बैलेंस शीट में, संपत्ति और देनदारियों को ऊपर से नीचे तक दिखाया जाता है। इस लेख में पूरा अर्थ समझाया गया है।

दोनों प्रकार की प्रस्तुति की संपूर्ण प्रस्तुति को पहले ही निम्नलिखित लेख में समझाया गया है:-

https://tutorstips.in/balance-sheet/

बैलेंस शीट का क्षैतिज रूप क्या है (What is the Horizontal form of the Balance sheet)?:

बैलेंस शीट की प्रस्तुति के इस रूप में, हमें पूरे पृष्ठ पर बाएं से दाएं खाते की सभी जानकारी प्रस्तुत करनी होती है। सभी संपत्तियों को सभी देनदारियों के संगत पक्ष में दिखाया गया है। सभी देनदारियों को बैलेंस शीट के बाईं ओर दिखाया गया है और सभी परिसंपत्तियों को बैलेंस शीट के दाईं ओर दिखाया गया है।

संपत्ति और देनदारियों के खातों को छाँटने के भी दो तरीके हैं, इन्हें निम्नानुसार दिखाया गया है: –

  1. तरलता के आधार पर (Based on Liquidity) 
  2. स्थायित्व के आधार पर (Based on Permanence) 

बैलेंस शीट का वर्टिकल फॉर्म क्या है (What is the Verticals form of the Balance sheet):

बैलेंस शीट की प्रस्तुति के ऊर्ध्वाधर रूप में, हमें पूरे पृष्ठ पर ऊपर से नीचे तक सभी खाते की जानकारी प्रस्तुत करनी होती है। सबसे पहले, हम सभी देनदारियों और पूंजी और फिर सभी संपत्तियों को दिखाते हैं। सभी संपत्तियों को सभी देनदारियों के बाद दिखाया गया है।

संपत्ति और देनदारियों के खातों को छाँटने के भी दो तरीके हैं, इन्हें निम्नानुसार दिखाया गया है: –

  1. तरलता के आधार पर (Based on Liquidity) 
  2. स्थायित्व के आधार पर (Based on Permanence)

क्षैतिज और लंबवत बैलेंस शीट के बीच अंतर का चार्ट (Chart of Difference between Horizontal and Vertical Balance sheet): –

अंतर का आधार

क्षैतिज

सीधा

अर्थहमें पूरे पृष्ठ पर बाएं से दाएं खाते की सभी जानकारी प्रस्तुत करनी होगी।हमें पूरे पृष्ठ पर ऊपर से नीचे तक सभी खाता जानकारी प्रस्तुत करनी होगी।
प्रस्तुति का आधारयह अगल-बगल मौजूद है।यह ऊपर से नीचे तक मौजूद है।
पक्षों की संख्याइसके दो पहलू हैंइसका केवल एक ही पक्ष है।
पक्षबाईं ओर देयताएं दिखाता है और दायां पक्ष संपत्ति दिखाता है।इसका केवल एक ही पक्ष है इसलिए पहले सभी देनदारियों (पूंजी सहित) को दिखाया और फिर सभी संपत्तियों को दिखाया।
अवधि शामिलइसमें सिर्फ एक साल के आंकड़े यानी चालू साल को शामिल किया गया है।इसमें दो साल के डेटा यानी चालू वर्ष के साथ-साथ पिछले वर्ष को भी शामिल किया गया है।
तुलनीयतापिछले वर्ष के साथ तुलना करना कठिन है क्योंकि इसमें केवल चालू वर्ष के आंकड़े शामिल हैं।पिछले वर्ष के साथ तुलना करना आसान है क्योंकि इसमें पिछले वर्ष के डेटा भी शामिल हैं।


चार्ट को पीएनजी और पीडीएफ में डाउनलोड करें (Download the chart in PNG and PDF): –

यदि आप चार्ट डाउनलोड करना चाहते हैं तो कृपया निम्न चित्र और पीडीएफ फाइल डाउनलोड करें: –

Chart of Difference between Horizontal and Vertical Balance sheet-1-min
Chart of Difference between Horizontal and Vertical Balance sheet-1-min

 

Chart of Difference between debenture and Preference share
Chart of Difference between Horizontal and Vertical Balance sheet-compressed

 

निष्कर्ष (Conclusion):

इस प्रकार, दोनों शब्दों में संपत्ति, देनदारियों और पूंजी के खातों की प्रस्तुति का एकमात्र मुख्य अंतर है। एक बगल से तैयार किया जाता है और दूसरा ऊपर से नीचे तक तैयार किया जाता है।

विषय पढ़ने के लिए धन्यवाद।

कृपया अपनी प्रतिक्रिया कमेंट करें जो आप चाहते हैं। अगर आपका कोई सवाल है तो कृपया हमें कमेंट करके पूछें।

Check out T.S. Grewal’s +2 Book 2020 @ Official Website of Sultan Chand Publication

+2 Book 1-min
+2 Book 1

Leave a Reply