Relationship between Average, Marginal and Total Cost – In Hindi

औसत सीमांत और कुल लागत के बीच संबंध (Relationship between Average, Marginal and total Cost) यह परिभाषित करता है कि ये शब्द एक-दूसरे के साथ कैसे जुड़े हैं।

 

AC, MC and TC के बीच संबंध (Relationship between Average Cost, Marginal Cost and Total Cost):

इन शर्तों के बीच संबंध बताते हैं कि ये लागत एक दूसरे से कैसे संबंधित हैं। हम इस संबंध को समझ सकते हैं:

(I) औसत और सीमांत लागत के बीच संबंध

(II) कुल लागत और सीमांत लागत के बीच संबंध

औसत और सीमांत लागत के बीच संबंध (Relationship between average and marginal cost):

यह बताता है कि आउटपुट के विभिन्न स्तरों पर औसत और सीमांत लागत एक दूसरे से कैसे संबंधित हैं। इसे सारणीबद्ध और चित्रमय प्रतिनिधित्व के साथ आसानी से समझा जा सकता है:

प्रतिनिधित्व (Representation):

Output (in units) Total Cost (Rs.) Average Cost (Rs) Marginal Cost (Rs)
0 20
1 40 40 20
2 56 28 16
3 69 23 13
4 80 20 11
5 90 18 10
6 102 17 12
7 126 18 24

उपरोक्त तालिका से पता चलता है कि ACऔर AMC एक दूसरे के संबंध में कैसे प्रतिक्रिया करते हैं। इसे रेखांकन से दिखाया जा सकता है:

Relationship between average and marginal cost
Relationship between average and marginal cost

उपरोक्त तालिका से पता चलता है कि AC और AMC एक दूसरे के संबंध में कैसे प्रतिक्रिया करते हैं। इसे रेखांकन से दिखाया जा सकता है:

अवलोकन (Observations):
  1. जब AC गिर रहा है, तो MC <AC: जब AC गिर रहा है, तो MC हमेशा AC से कम होता है। ग्राफ में, बिंदु E तक, MC AC से कम होना जारी है। इस मामले में, सीमांत लागत औसत लागत की तुलना में अधिक तेजी से गिरती है। इसलिए, जब AMC गिर रहा है, यह औसत लागत से नीचे है।
  2. जब AC बढ़ रहा होता है, MC> AC: जब औसत लागत रुपये से बढ़ने लगती है। 17 से रु। 18, सीमांत लागत औसत लागत से अधिक है। अंजीर में, बिंदु E के बाद, AC बढ़ने लगता है और MC, AC से अधिक होता है।
  3. बिंदु E, MC = AC पर: जब औसत लागत स्थिर रहती है, तो MC = AC यह न्यूनतम एसी के बिंदु पर होता है। इसलिए, यह ग्राफ से स्पष्ट है, बिंदु E पर, MC और AC एक दूसरे को प्रतिच्छेद करते हैं। इसलिए, इस बिंदु पर, एमसी = एसी।
  4. MC हमेशा AC के बाईं ओर होता है और AC को उसके सबसे निचले बिंदु से काटता है।

कुल लागत और सीमांत लागत के बीच संबंध (Relationship between total cost and marginal cost):

कुल लागत और सीमांत लागत के बीच संबंध उपरोक्त तालिका और ग्राफ से भी देखे जा सकते हैं। यह प्रतिनिधित्व से साफ है कि:

  1. सीमांत लागत आउटपुट की दो क्रमिक इकाइयों की कुल लागत के बीच का अंतर है। इसलिए, MCn = TCn – TCn-1।
  2. जब MC कम हो रहा होता है, तो TC कम हो जाती है।
  3. जब MC भी बढ़ रहा है तो TC बढ़ती दर से बढ़ रही है।
  4. जब MC अपने निम्नतम बिंदु पर पहुँच जाता है। कम होने की दर से टीसी बढ़ रही है।

इस प्रकार, संक्षेप में, हम कह सकते हैं कि एमसी टीसी की दर है। इसके अलावा, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि टीवीसी और एमसी के बीच संबंध एमसी और टीसी के बीच समान है। ऐसा इसलिए है क्योंकि TC और TVC के बीच का अंतर स्थिर स्थिर लागत के बराबर है।

धन्यवाद, और कृपया अपने दोस्तों के साथ साझा करें

यदि आपके कोई प्रश्न हैं तो टिप्पणी करें।

References:

Introductory Microeconomics – Class 11 – CBSE (2020-21) 

 

 

Leave a Reply