What are the different types of Preference Shares? In Hind

Advertisement

वरीयता शेयरों के प्रकार (Types of Preferences Shares) वरीयता शेयरों के मुद्दे के समय पूर्वनिर्धारित नियम और शर्तों पर निर्भर होते हैं।

कुछ पूर्वनिर्धारित प्राथमिकताओं के साथ शेयर बाजार में जारी किए गए स्वामित्व के शेयरों को वरीयता शेयरों (Preferences shares

Advertisement
) के रूप में जाना जाता है। स्वामित्व के शेयर जो कुछ वरीयताओं को ले जा रहे हैं, वरीयताओं के रूप में जाने जाते हैं। प्राथमिकताएँ मुख्य रूप से इक्विटी शेयरों की परिवर्तनीय दर के बाद लाभांश की निश्चित दर, निश्चित चुकौती की तारीख की होती हैं। वरीयता शेयरधारकों के लाभांश का भुगतान इक्विटी शेयरों पर लाभांश से पहले किया जाता है।

Advertisement

वरीयता शेयर के प्रकार (Types of Preference Shares)

वरीयता शेयर को निम्न शर्तों के आधार पर 6 प्रकारों में विभाजित (Types of Preferences Shares) किया जा सकता है: –

Advertisement

1. बदल सकना (Convertibility)

यदि शेयर के जारी होने के समय पूर्वनिर्धारित शर्तों के साथ जारी किया जाता है तो वरीयता शेयर इक्विटी शेयर पूंजी में परिवर्तनीय हो सकते हैं। ये शायद परिवर्तनीय या गैर-परिवर्तनीय हैं।

परिवर्तनीय वरीयता शेयर (Convertible Preference Share):

परिवर्तनीय वरीयता वाले शेयर वे होते हैं जो कुछ निश्चित अवधि के बाद इन शेयरों को इक्विटी शेयर में बदलने की पूर्वनिर्धारित शर्त पर जारी किए जाते हैं।

गैर-परिवर्तनीय वरीयता साझा करें (Non-Convertible Preference Share)

गैर-परिवर्तनीय वरीयता वाले शेयर वे हैं जिनके पास इक्विटी शेयरों में इन शेयरों के रूपांतरण का पूर्वनिर्धारित अधिकार नहीं है। निश्चित अवधि के बाद इन शेयरों का भुगतान किया जाता है।

2. संचयी (Cumulative)

संचयी वरीयता शेयरों का मतलब है कि जब कोई व्यवसाय किसी वित्तीय वर्ष में नुकसान के कारण वरीयता शेयरधारकों को लाभांश का भुगतान नहीं कर सकता है, तो लाभांश की राशि को कम किया जाएगा और आगामी लाभदायक वित्तीय वर्षों में भुगतान किया जाएगा।

संचयी वरीयता शेयर (Cumulative Preference Share)

संचयी वरीयता वाले शेयर वे होते हैं जिन पर वरीयता शेयरों के लाभांश के संचयन का पूर्वनिर्धारित अधिकार होता है।

गैर-संचयी वरीयता शेयर (Non-Cumulative Preference Share)

संचयी वरीयता वाले शेयर वे होते हैं, जिन्हें वरीयता शेयरों की पूंजी पर लाभांश के संचय के लिए पूर्वनिर्धारित अधिकार नहीं होता है।

3. भाग लेना (Participation) 

भागीदारी का मतलब इक्विटी शेयरधारक को लाभांश के भुगतान के बाद शेष लाभ के वितरण में भाग लेने का अधिकार है।

भाग लेने वाले पसंद साझा करें (Participating  Preference Share)

भाग लेने वाले वरीयता शेयर वे होते हैं जिन्हें इक्विटी शेयरधारकों को किए गए भुगतान के बाद शेष लाभ के वितरण में भाग लेने का अधिकार होता है।

गैर-भाग लेने वाले वरीयता साझा करें (Non-Participating  Preference Share)

भाग लेने वाले वरीयता शेयर वे होते हैं जिन्हें इक्विटी शेयरधारकों को किए गए भुगतान के बाद शेष लाभ के वितरण में भाग लेने का अधिकार नहीं होता है।

4. प्रतिदान (Redemption)

रिडेम्पशन का अर्थ है शेयरधारक को निश्चित समयावधि के बाद भुगतान करना जो पहले से ही इश्यू के समय परिभाषित है।

Redeemable वरीयता शेयर

वरीयता वाले शेयर जिनके पास पहले से तय परिपक्वता तिथि (इश्यू की तारीख से 20 साल तक की अधिकतम सीमा) के बाद या शेयरधारकों को पूर्व सूचना देकर रिडीम करने का पूर्वनिर्धारित अधिकार है।

असत्य वरीयता शेयर (Irredeemable Preference Share)

इरेडिजेबल फेवर शेयर वे होते हैं जिनकी पूँजी के कुल मूल्य में वरीयता शेयरों की राशि) का भुगतान कारोबार के समापन के समय किया जाएगा।

5. कॉल करने योग्य विकल्प (Callable Option)

कॉल करने योग्य वरीयता शेयर वे हैं जिन पर किसी व्यवसाय को किसी भी समय बायबैक के लिए कॉल करने का अधिकार है।

6. समायोज्य दर (Adjustable-Rate) 

समायोज्य दर वरीयता शेयर वे हैं जिनकी लाभांश की दर तय नहीं है और यह बाजार में वर्तमान ब्याज दर पर निर्भर करेगा।

विषय पढ़ने के लिए धन्यवाद।

कृपया अपनी प्रतिक्रिया जो आप चाहते हैं टिप्पणी करें। यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो कृपया हमें टिप्पणी करके पूछें।

References: –

  1. mca.gov.in
  2. Class +2 Accountancy by Sultan Chand & Sons (P) Ltd.

 

 

 

Advertisement

Leave a Reply