Circular Flow of Money – In Hindi

मुद्रा का वृत्ताकार प्रवाह (Circular Flow of Money) वास्तविक प्रवाह (Real and Money Flow) की निरंतर वृत्ताकारता और अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में धन प्रवाह को संदर्भित करता है।

धन का चक्रीय प्रवाह (Circular flow of money):

एक अर्थव्यवस्था में, कारक सेवाओं की खरीद के लिए उत्पादकों से घरों में धन का प्रवाह एक सतत प्रक्रिया है। इसी तरह, वस्तुओं और सेवाओं की खरीद के लिए पैसा घरों से उत्पादकों के पास जाता है। यह एक सतत प्रक्रिया है। यह अंतरक्षेत्रीय प्रवाह कभी नहीं रुकता। इसलिए, इसे “गोलाकार प्रवाह” के रूप में जाना जाता है। यह कभी नहीं रुकता, क्योंकि:

  1. परिवारों द्वारा कारक सेवाओं की मांग कभी नहीं रुकती।
  2. घरों में उपभोक्ता वस्तुओं और सेवाओं की मांग कभी नहीं रुकती।

दूसरे शब्दों में, उत्पादक क्षेत्र और घरेलू क्षेत्र के बीच धन का चक्रीय प्रवाह (Circular Flow of Money) कभी नहीं रुकता। इसका कारण यह है कि उपभोग की प्रक्रिया कभी नहीं रुकती और उत्पादन की प्रक्रिया कभी नहीं रुकती।

परिपत्र प्रवाह मॉडल का महत्व (Significance of the Circular Flow Model):

मुद्रा के चक्रीय प्रवाह (Circular Flow of Money) की समझ निम्नलिखित कारणों से महत्वपूर्ण है:

अंतरक्षेत्रीय अन्योन्याश्रयता का ज्ञान (Knowledge of intersectoral Interdependence): 

यह मॉडल अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों के बीच अन्योन्याश्रयता को समझने में मदद करता है। इसमें यह बताया गया है कि उपभोक्ता किस प्रकार आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वस्तुओं और सेवाओं के लिए उत्पादकों पर निर्भर होते हैं। इसी तरह, यह भी बताता है कि कैसे उत्पादक सेवाओं की आपूर्ति के लिए उपभोक्ताओं पर निर्भर हैं।

राष्ट्रीय आय का अनुमान (Estimation of National Income):

यह मॉडल राष्ट्रीय आय के आकलन की सुविधा प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, राष्ट्रीय आय अर्थव्यवस्था में उत्पादकों से घरों तक प्रवाहित होने वाली कुल कारक आय का योग है। यहां, कारक सेवाओं में किराया, लाभ, मजदूरी और ब्याज के रूप में भुगतान शामिल हैं। इस प्रकार, इसे अर्थव्यवस्था में उत्पादकों से अन्य क्षेत्रों में प्रवाहित होने वाली वस्तुओं और सेवाओं के बाजार मूल्य के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। इसलिए, पैसे के सर्कुलर फ्लो को आय का सर्कुलर फ्लो भी कहा जाता है। इसके अलावा, इसे उत्पादक क्षेत्र द्वारा उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं पर कुल व्यय के योग के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

धन्यवाद, और कृपया अपने दोस्तों के साथ साझा करें

कोई सवाल हो तो कमेंट करें।

References:

Introductory Microeconomics – Class 11 – CBSE (2020-21)

Leave a Reply