Debenture – Meaning, Definition, Features, and types – In Hindi

डिबेंचर (Debenture) को ऋण के समान माना जाता है। इसमें ब्याज की एक निश्चित दर होती है जिसका भुगतान फर्म द्वारा प्रत्येक पूर्ण वर्ष के बाद किया जाता है। डिबेंचर की एक निश्चित परिपक्वता तिथि होती है।

डिबेंचर का अर्थ (Meaning of Debenture):

डिबेंचर एक प्रकार का ऋण या ऋण साधन है जो जनता को सदस्यता लेने के लिए बाजार में जारी किया जाता है। यह किसी व्यक्तिगत संस्था से नहीं लिया गया है। यह ग्राहकों की संख्या को खरीद और बिक्री के लिए बाजार में इक्विटी या वरीयता शेयरों (Shares) की तरह जारी किया जाता है। हर प्रकार के ऋण की तरह, इसमें भी ब्याज की एक निश्चित दर होती है जिसका भुगतान कंपनी द्वारा इन डिबेंचर के ग्राहक को किया जाएगा। डिबेंचर के ग्राहक को डिबेंचर धारक के रूप में जाना जाता है।

डिबेंचर की परिभाषा (Definition of Debenture): 

“डिबेंचर (Debenture) में डिबेंचर स्टॉक, बॉन्ड, और कंपनी के किसी भी अन्य उपकरण को शामिल किया गया है जो एक ऋण का सबूत है, चाहे कंपनी की संपत्ति पर चार्ज हो या नहीं।”

– Section 2(30) of the Companies Act, 2013

“एक डिबेंचर (Debenture) एक कंपनी द्वारा दिया गया एक दस्तावेज है जो धारक को ऋण के प्रमाण के रूप में आमतौर पर ऋण से उत्पन्न होता है और आमतौर पर एक शुल्क द्वारा सुरक्षित होता है।”

-Topham

डिबेंचर की विशेषताएं (Features of Debenture):

ऋण का प्रकार (Type of Loan): 

एक डिबेंचर (Debenture) ऋण का प्रकार है क्योंकि डिबेंचर धारकों के साथ व्यवसाय के स्वामित्व को साझा नहीं करना पड़ता है। वे प्रत्येक वर्ष के अंत में डिबेंचर के शेष पर ब्याज की निश्चित दर का भुगतान करते हैं।

अवधि और भुगतान का तरीका पूर्वनिर्धारित (Period and Mode of payment predefined):

परिपक्वता तिथि या समय अवधि जिसके बाद डिबेंचर (Debenture) को चुकाया जाएगा, डिबेंचर जारी करने के समय तय किया जाएगा। डिबेंचर के पुनर्भुगतान के संबंध में सभी शर्तें पूर्वनिर्धारित और पूर्वनिर्धारित होंगी।

निश्चित ब्याज दर (Fixed-Rate of Interest):

ब्याज की दर डिबेंचर के पूरे जीवन में तय होती है और यह डिबेंचर के जारी होने से पहले भी तय होती है।

लाभ पर ब्याज लगाया जाता है (Interest is charged against Profit):-

डिबेंचर (Debenture) पर ब्याज वर्ष के लाभ के विरुद्ध लगाया जा सकता है। यह डिबेंचर की सबसे अच्छी विशेषताओं में से एक है क्योंकि कंपनी अपने लाभ के खिलाफ ब्याज की राशि का दावा कर सकती है। तो यह करों की राशि को बचा सकता है।

वरीयता और इक्विटी से पहले भुगतान किया गया (Paid before Preference and Equity): 

यह डिबेंचर धारकों के लिए डिबेंचर की सबसे अच्छी विशेषता है क्योंकि डिबेंचर के खिलाफ देय राशि पहले भुगतान की जाती है। इसका मतलब है कि डिबेंचर के खिलाफ देय राशि का भुगतान इक्विटी और वरीयता शेयरधारकों के किसी भी निपटान से पहले किया जाएगा।

डिबेंचर के प्रकार (Types of Debentures):

डिबेंचर के प्रकार निम्न के आधार पर श्रेणियां हो सकते हैं:

  • सुरक्षा
  • मोचन
  • बदल सकना
  • पंजीकरण

सुरक्षा के आधार पर (On the Basis of Security): –

डिबेंचर (Debenture) के प्रकार जिन्हें सुरक्षा के आधार पर वर्गीकृत किया गया है, उन्हें दो उपश्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। इन्हें नीचे दिखाया गया है:

सुरक्षित डिबेंचर (Secured Debentures):

सुरक्षित डिबेंचर वे हैं जो अचल संपत्तियों के खिलाफ सुरक्षित हैं।

असुरक्षित डिबेंचर (Unsecured Debentures):

असुरक्षित डिबेंचर वे हैं जो अचल संपत्तियों के खिलाफ सुरक्षित नहीं हैं।

मोचन के आधार पर (On the Basis of Redemption): –

रिडेम्पशन के आधार पर वर्गीकृत किए गए डिबेंचर के प्रकार को दो उपश्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। इन्हें नीचे दिखाया गया है:

रिडीमेबल डिबेंचर (Redeemable Debentures):

रिडीमेबल डिबेंचर वे होते हैं जिन्हें निश्चित परिपक्वता तिथि के बाद भुनाया जाता है।

अप्रतिदेय डिबेंचर (Irredeemable Debentures):

अप्रतिदेय डिबेंचर वे हैं जो निश्चित परिपक्वता तिथि के बाद भुनाए नहीं जाते हैं।

परिवर्तनीयता के आधार पर (On the Basis of Convertibility): –

रिडेम्पशन के आधार पर वर्गीकृत किए गए डिबेंचर के प्रकार को दो उपश्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। इन्हें नीचे दिखाया गया है:

पूरी तरह से परिवर्तनीय डिबेंचर (Fully Convertible Debentures):

पूरी तरह से परिवर्तनीय डिबेंचर वे हैं जो परिपक्वता तिथि के बाद पूरी तरह से इक्विटी या वरीयता शेयरों में परिवर्तित हो जाते हैं।

आंशिक रूप से परिवर्तनीय डिबेंचर (Partly Convertible Debentures):

आंशिक रूप से परिवर्तनीय डिबेंचर वे हैं जो परिपक्वता तिथि के बाद आंशिक रूप से इक्विटी या वरीयता शेयरों में परिवर्तित हो जाते हैं।

गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (Non-Convertible Debentures):

गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर वे हैं जो परिपक्वता तिथि के बाद इक्विटी या वरीयता शेयरों में परिवर्तित नहीं होते हैं।

विषय पढ़ने के लिए धन्यवाद।

कृपया अपनी प्रतिक्रिया कमेंट करें जो आप चाहते हैं। अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

References: –

  1. ebook.mca.gov.in
  2. Class +2 Accountancy by Sultan Chand & Sons (P) Ltd.

Leave a Reply