Balance Sheet: Meaning, Format & Examples – In Hindi

Balance Sheet - Feature Image

मीनिंग ऑफ बैलेंस शीट (Meaning of Balance Sheet): –

बैलेंस शीट (Balance Sheet) एक विशेष लेखा अवधि में व्यापार की संपत्ति और देनदारियों की स्थिति को दर्शाने वाला बयान है। यह संपत्ति, पूंजी और देनदारियों के खाता बही के संतुलन की एक सूची है। संपत्ति का मूल्य जो हम बाजार से महसूस कर सकते हैं और देयता का मूल्य दिखाता है जिसे हमें भविष्य (Future) में भुगतान करना होगा। कैपिटल मालिक द्वारा व्यवसाय इकाई में निवेश की गई राशि को दर्शाता है। यह निम्नलिखित खाता समीकरण पर आधारित है।

Assets = Capital + Liabilities

https://tutorstips.in/accounting-equation/

बैलेंस शीट की सुविधा (Features of Balance Sheet): –

  1. बैलेंस शीट (Balance Sheet) अंतिम खातों के अंत में तैयार की जाती है।
  2. यह(Balance Sheet) व्यावसायिक इकाई की सॉल्वेंसी को पहचानने में सहायक है।
  3. यह(Balance Sheet) केवल परिसंपत्तियों, पूंजी और देनदारियों का एक बयान है।
  4. बैलेंस शीट (Balance Sheet) डबल एंट्री सिस्टम के तहत एक खाता नहीं है।
  5. यह (Balance Sheet) के दो पहलू हैं: – पूंजी और देनदारियों के लिए बाईं ओर और अगर संपत्ति के लिए दाईं ओर।
  6. दोनों पक्षों का कुल हमेशा एक दूसरे के बराबर होता है।
  7. गोइंग चिंता अवधारणा के आधार पर वित्तीय विवरण तैयार करने में मदद करता है।
  8. एक इकाई की वित्तीय स्थिति का प्रकटीकरण।
  9. व्यय और आय खाते को बैलेंस शीट (Balance Sheet) में नहीं दिखाया गया है।

बैलेंस शीट की आवश्यकता (The Need Of Balance Sheet): –

  1. इसे इकाई की वास्तविक वित्तीय स्थिति दिखाने की आवश्यकता है।
  2. इसे संबंधित पक्षों जैसे मालिक, इक्विटी शेयरधारक, वित्तीय संस्थान को सभी आवश्यक जानकारी प्रदान करने की आवश्यकता है।
  3. एक इकाई की विकास दर प्रदान करें।
  4. निवेश और वित्तपोषण निर्णय के परिणाम को दर्शाता है।
  5. व्यवसाय में एक मालिक और अन्य का दावा जानने के लिए।

बैलेंस शीट तैयार करने की विधि (Methods of Preparation of Blance Sheet): –

हम ट्रायल बैलेंस (Trial Balance) से एक बैलेंस शीट (Balance Sheet) तैयार करेंगे ट्रेडिंग और प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट तैयार करने के बाद हमने ट्रायल बैलेंस में केवल एसेट्स, लायबिलिटीज और कैपिटल अकाउंट को छोड़ दिया है। इसलिए ये सभी बचे खाते बैलेंस शीट में पोस्ट किए गए हैं। बैलेंस शीट एक साधारण समीकरण पर आधारित होती है अर्थात् संपत्ति = पूंजी + देयताएं लेकिन तैयारी के तरीकों में, केवल अंतर खातों के संतुलन की प्रस्तुति का है। ये विधियाँ निम्न बातों पर आधारित हैं: –

  • पहला तरलता पर आधारित है
  • दूसरा स्थायीता पर आधारित है

तरलता के आधार पर (Based On Liquidity): –

इस पद्धति में, एसेट्स को इस तरह से व्यवस्थित किया जाता है कि अधिकांश तरल संपत्ति पहले दिखाई जाती है, उसके बाद कम तरल संपत्ति। इसी तरह, देयताओं को इस तरह से व्यवस्थित किया जाता है कि सबसे जरूरी भुगतान पहले दिखाए जाते हैं, उसके बाद कम जरूरी और दिखाए गए पूंजी (मालिक की इक्विटी) से।

बैलेंस शीट (Balance Sheet) का प्रोफार्मा निम्नलिखित है: –

Name of the Entity
Balance Sheet as on 31st March, _______
Liabilities  Amount Assets  Amount 
Current Liabilities    Current Assets   
Trade Creditors    Cash in hand   
Bills Payable    Cash at Bank  
Outstanding Expenses    Inventories   
Advance/Unearned Incomes   Bills payable   
Short term loans    Sundry Debtors   
Non-Current Liabilities    Prepaid Expenses   
long terms loans   Accrued Incomes   
Debentures    Fixed/Non-Current Assets  
Capital   Building   
Add:  Net profit    Land   
   interest on Capital
  Plant & machine   
Less:  Drawings    Furniture & fixture   
   Net Loss    Goodwill   
       
       

स्थायीता के आधार पर (Based On Permanence): –

इस पद्धति में, एसेट्स को इस तरह से व्यवस्थित किया जाता है कि सबसे कम तरल संपत्ति पहले दिखाई जाती है, उसके बाद अधिक तरल संपत्ति। इसी प्रकार, देयताएं साइड कैपिटल पहले और उसके बाद लंबी अवधि / गैर-वर्तमान देनदारियों और फिर, छोटी शर्तों / वर्तमान देनदारियों से पता चलता है।

बैलेंस शीट (Balance Sheet) का प्रोफार्मा निम्नलिखित है: –

Name of the Entity
Balance Sheet as on 31st March, _______
Liabilities  Amount Assets  Amount 
Capital   Fixed/Non-Current Assets  
Add:  Net profit    Building   
   interest on Capital
  Land   
Less:  Drawings    Plant & machine   
   Net Loss    Furniture & fixture   
    Goodwill   
Non-Current Liabilities    Current Assets   
long terms loans   Inventories   
Debentures    Bills payable   
Current Liabilities    Sundry Debtors   
Trade Creditors    Prepaid Expenses   
Bills Payable    Accrued Incomes   
Outstanding Expenses    Cash in hand   
Advance/Unearned Incomes   Cash at Bank  
Short term loans       
       

या यदि आप प्रारूप डाउनलोड करना चाहते हैं तो कृपया निम्न चित्र डाउनलोड करें: –

Balance Sheet - Format based on Liquidity - horizontal
Format based on Liquidity – horizontal-
Balance Sheet - Format based on Permanence - horizontal
Format based on Permanence – horizontal

संतुलन (Balance) के स्तंभ (Column) की व्याख्या: –

  1. देयताएं (Liabilities):- इस कॉलम में, सभी देनदारियों और पूंजी को एक विशेष अनुक्रम में दिखाया गया है।
  2. रकम (Amount): – इस कॉलम में, विशेष देयता या पूंजी की मात्रा दर्शाई गई है।
  3. संपत्ति (Assets):- इस कॉलम में, सभी एसेट्स को एक विशेष अनुक्रम में दिखाया गया है।
  4. रकम (Amount): – इस कॉलम में, विशेष एसेट की मात्रा दिखाई गई है।

प्रस्तुति का रूप (The Form Of Presentation): –

बैलेंस शीट को दो रूपों में प्रस्तुत किया जा सकता है।

  1. क्षैतिज (Horizontal)
  2. स्तंभ (Vertical)

1. बैलेंस शीट का क्षैतिज रूप (The Horizontal form of the Balance sheet): –

अब तक चर्चा की गई बैलेंस शीट (Balance Sheet) की प्रस्तुति को क्षैतिज प्रस्तुति कहा जाता है। इस प्रस्तुति के रूप में, हमने पृष्ठ के सभी खातों की जानकारी बाईं से दाईं ओर प्रस्तुत की थी। सभी संपत्तियां सभी देयताओं के संगत पक्ष पर दिखाई जाती हैं। सभी देनदारियों को बैलेंस शीट के बाईं ओर दिखाया गया है और सभी परिसंपत्तियों को बैलेंस शीट के दाईं ओर दिखाया गया है।

2. बैलेंस शीट का कार्यक्षेत्र  (The Vertical Form Of Balance Sheet): –

प्रस्तुति के ऊर्ध्वाधर रूप में, हमें पृष्ठ की सभी जानकारी ऊपर से नीचे तक प्रस्तुत करनी होगी। पहले, हम सभी देनदारियों और पूंजी को दिखाते हैं और फिर सभी परिसंपत्तियों के बाद। यह भी दो तरह से मौजूद है

  • पहला लिक्विडिटी पर आधारित है
  • दूसरा परमानेंस पर आधारित है
  • पहला लिक्विडिटी पर आधारित है: –
Balance Sheet as on 31st March ____________
  Note No. Current Year  Previous Year 
I. Liabilities      
(1) Current Liabilities      
(a) Trade Payable      
(b) Other Current Liabilities      
(c) Short-Term Provision      
Total Current Liabilities       
       
(2) Non-Current Liabilities       
(a) long terms loans/Borrowing      
(b) Other Long-Term Liabilities      
Total Non-Current Liabilities       
       
(3) Owner’s Equity(Capital)      
Add:  Net profit      
   Interest on Capital      
Less:  Drawings      
   Net Loss      
Total Owner’s Equity      
       
Total Liabilities       
       
II. Assets      
(1) Current Assets       
(a) Cash in hand      
(b) Cash at Bank      
(c) Inventories      
(d) Trade Receivables      
(e) other current Assets      
Total Current Assets      
       
(2) Non-Current Assets      
(a) Fixed Assets      
(i) Tangible assets      
(ii) Intangible assets      
(iii) Capital work-in-progress      
(iv) Intangible assets under development      
(b) Non-current investments      
(c) Deferred tax assets (net)      
(d) Long-term loans and advances      
(e) Other non-current assets      
Total Non-Current Assets      
       
Total Assets       
  • दूसरा परमानेंस पर आधारित है:- 
Balance Sheet as on 31st March ____________
Balance Sheet as on 31st March ____________ Note No. Current Year  Previous Year 
I. Liabilities      
(1) Owner’s Equity(Capital)      
Add:  Net profit      
   Interest on Capital      
Less:  Drawings      
   Net Loss      
Total Owner’s Equity      
       
(2) Non-Current Liabilities       
(a) long terms loans/Borrowing      
(b) Other Long-Term Liabilities      
Total Non-Current Liabilities       
       
(3) Current Liabilities      
(a) Trade Payable      
(b) Other Current Liabilities      
(c) Short-Term Provision      
Total Current Liabilities       
       
Total Liabilities       
       
II. Assets      
(1) Non-Current Assets      
(a) Fixed Assets      
(i) Tangible assets      
(ii) Intangible assets      
(iii) Capital work-in-progress      
(iv) Intangible assets under development      
(b) Non-current investments      
(c) Deferred tax assets (net)      
(d) Long-term loans and advances      
(e) Other non-current assets      
Total Non-Current Assets      
       
(2) Current Assets       
(a) Cash in hand      
(b) Cash at Bank      
(c) Inventories      
(d) Trade Receivables      
(e) other current Assets      
Total Current Assets      
       
Total Assets       

या यदि आप प्रारूप डाउनलोड करना चाहते हैं तो कृपया निम्न चित्र डाउनलोड करें: –

Balance Sheet Format based on Liquidity - Vertical
based on Liquidity -Vertical
Balance Sheet Format based on Permanence - Vertical
based on Permanence – Vertical

 

 

 

 

 

 

 

संतुलन के स्तंभ की व्याख्या ( Explanation Of Column Of Balance): –

नोट नं।: – प्रत्येक देनदारियों के लिए, पूंजी और परिसंपत्तियां खाते में एक विवरण नोट बैलेंस शीट के साथ संलग्न किया जाएगा। इस कॉलम में, नोट संख्या को संदर्भों में दिखाया जाएगा।

वर्तमान साल: –प्रत्येक खाते का कुल विवरण इस कॉलम में दिखाया गया है।

पिछला साल (Previous Year): – पिछले वर्ष की बैलेंस शीट से कुल एक ही खाता इस कॉलम में दिखाया जाएगा।

 संतुलन के स्तंभ का उदाहरण (Example Of Column Of Balance): –

31 मार्च 2018 को बैलेंस शीट तैयार करें

(ट्रायल बैलेंस (Trial Balance) केवल परिसंपत्तियों, देनदारियों और पूंजी खाता शेष को दर्शाता है।)

Particulars  Debit balance  Credit Balance
Capital   10,00,000
Furniture & fixture 1,00,000  
Land & Building 5,00,000  
Sundry Creditors   70,000
Bills Receivable 15,000  
Investment 500,000  
Inventories  60,000  
Bills payable    25,000
Sundry Debtors  50,000  
Prepaid Insurance 20,000  
Accrued interest on Investment 15,000  
Outstanding Salary    50,000
Rent received in advance   25,000
Short term loans    40,000
Cash in hand  50,000  
Cash at Bank 170,000  
the loan from Bank(repayable within 7 years)
  2,00,000
     

Net Profit for the year ended is Rs 90,000/-

उपाय (Solution): –

हम इस उदाहरण को दोनों विधियों से हल करेंगे।

1) तरलता के आधार पर: –
Balance Sheet as on 31st March 2018
Liabilities  Amount Assets  Amount 
Capital 10,00,000   Fixed/Non-Current Assets  
Add:  Net profit 90,000   Land & Building 5,00,000
Less:  Drawings 20,000   Furniture & fixture 1,00,000
    10,70,000 Investment 5,00,000
Non-Current Liabilities      Current Assets   
Bank loan   2,00,000 Inventories 60,000
      Bills Receivable 15,000
Current Liabilities      Sundry Debtors 50,000
Trade Creditors      70,000 Prepaid Insurance 20,000
Bills Payable    25,000 Accrued interest on Investment 15,000
Outstanding Expenses       50,000 Cash in hand   50,000
Advance/Unearned Incomes 25,000 Cash at Bank 1,70,000
Short term loans           40,000    
  14,80,000   14,80,000
2) स्थायीता पर आधारित: –
Balance Sheet as on 31st March 2018
Liabilities  Amount Assets  Amount 
Current Liabilities      Liquid Assets   
Trade Creditors   70,000 Cash in hand 50,000
Bills Payable   25,000 Cash at Bank 1,70,000
Outstanding Expenses   50,000 Inventories 60,000
Advance/Unearned Incomes      25,000 Bills Receivable 15,000
Short term loans       40,000 Sundry Debtors 50,000
Non-Current Liabilities      Prepaid Insurance 20,000
Bank Loan   2,00,000 Accrued interest on Investment 15,000
Capital 10,00,000   Fixed/Non-Current Assets  
Add:  Net profit 90,000   Land & Building 5,00,000
Less:  Drawings  20,000   Furniture & fixture 1,00,000
    10,70,000 Investment 5,00,000
         
  14,80,000   14,80,000

धन्यवाद अपने दोस्तों के साथ साझा करें

यदि आपके कोई प्रश्न हैं तो टिप्पणी करें।

Check out Financial Accounting Books @ Amazon.in

One Reply to “Balance Sheet: Meaning, Format & Examples – In Hindi”

Leave a Reply