Revenue curve under Perfect Competition – In Hindi

एक फर्म के लिए एकदम सही प्रतियोगिता के तहत राजस्व वक्र (revenue curve under perfect competition) आउटपुट के समानांतर सीधी रेखा द्वारा दर्शाया गया है। औसत राजस्व या मूल्य और एमआर फर्म के लिए स्थिर रहते हैं।

परफेक्ट कॉम्पिटिशन के तहत रेवेन्यू कर्व (Revenue curve under Perfect Competition):

एकदम सही प्रतिस्पर्धा या एक पूरी तरह से प्रतिस्पर्धी बाजार के तहत, फर्म एक मूल्य लेने वाला है। यह बाजार मूल्य को नहीं बदल सकता क्योंकि उसे अपने उत्पादों को बाजार में प्रचलित मूल्य पर बेचना पड़ता है। यदि कोई फर्म अपने उत्पादों को बाजार मूल्य से अधिक कीमत पर बेचने की कोशिश करता है, तो वह बाजार में अपने ग्राहकों को खो सकता है। इसका कारण यह है कि बाजार में अन्य फर्में होंगी जो बाजार में प्रचलित मूल्य पर या फर्म की कीमत से कम कीमत पर समान उत्पाद बेचती हैं।

इसलिए, सही प्रतिस्पर्धा के तहत, फर्म को बाजार की शक्तियों जैसे मांग और आपूर्ति द्वारा निर्धारित बाजार में प्रचलित मूल्य को स्वीकार करना पड़ता है। इसलिए, इसका मतलब है कि फर्म के लिए औसत राजस्व (Average Revenue) या कीमत स्थिर रहेगी। इसके अलावा, निरंतर एआर का अर्थ है निरंतर एमआर। इस प्रकार, इसका मतलब है कि सही प्रतिस्पर्धा के तहत, एआर = एमआर = मूल्य।

It can be well explained with the help of tabular and graphical representation:

सारणीबद्ध प्रतिनिधित्व (Tabular Representation):

निम्न अनुसूची एआर, एमआर और टीआर के व्यवहार को पूरी तरह से प्रतिस्पर्धी बाजार में दर्शाती है:

Output/Sales

(in units)

Q

Average Revenue

AR = TR/Q =Price

(In Rs.)

Total Revenue

TR= AR*Q

(In Rs)

Marginal Revenue

MR = TRn– TRn-1 

(In Rs.)

1101*10=1010
2102*10=2010
3103*10=3010
4104*10=4010
5105*10=5010

उपरोक्त तालिका में, यह स्पष्ट रूप से स्पष्ट है कि फर्म के लिए उत्पाद का मूल्य या एआर 10 रुपये प्रति यूनिट है। इसके अलावा, यह आउटपुट के सभी स्तरों के लिए स्थिर रहता है। इसके अलावा, लगातार एआर की ओर जाता है

  1. स्थिर MR.
  2. AR =MR= Rs.10

सचित्र प्रदर्शन (Graphical Representation):

Revenue curve under Perfect Competition
Revenue curve under Perfect Competition

चित्रा में, X-axis बेचे गए आउटपुट को दिखाता है और Y-axis राजस्व को दर्शाता है। यहां, क्षैतिज सीधी रेखा ए फर्म के राजस्व वक्र (मूल्य रेखा या मांग वक्र) को इंगित करती है। तात्पर्य यह है कि रु। 10 प्रति यूनिट पर, विक्रेता या फर्म किसी भी मात्रा में आउटपुट बेच सकता है। इसलिए, सही प्रतिस्पर्धा के तहत फर्म का AR वक्र पूरी तरह से लोचदार है।

References:

Introductory Microeconomics – Class 11 – CBSE (2020-21) 

Leave a Reply